Movie prime
बिहार के एक सरकारी अस्पताल ने शव देने के बदले मांगे 50 हजार रुपए, गरीब मां-बाप को मांगनी पड़ी भीख
 

बिहार के समस्तीपुर के एक अस्पताल से शर्मसार करने वाली घटना सामने आई है. एक माता पिता को अपने ही बच्चे के शव के लिए अस्पताल के सामने गिड़गिड़ाना पड़ा. इसके बाबजूद भी अस्पताल के लोगों ने उसे लाश देने के लिए 50, 000 की मोटी रकम मांगी. जिसके बाद उस गरीब- माता को अपने बच्चे के शव के लिए भीख मांगनी पड़ी. इतना ही नहीं भीक मांगने वाली वीडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रही है. वैसे ये घटना सामने आने के बाद पूरे मामले की जांच के लिए सिविल सर्जन ने टीम गठित की है. 

भीख मांगते मृतक के माता-पिता

आपको बता दें कि ये घटना ताजपुर थाना क्षेत्र में स्थित कस्बे आहार गांव की है. वहीं महेश ठाकुर नाम के एक व्यक्ति का मानसिक रूप से विक्षिप्त पुत्र 25 मई को लापता हो गया था. परिजनों ने काफी खोजबीन की, लेकिन उसका पता नहीं चल पाया. इतना ही नहीं 7 जून को परिजन को पता चला कि मुसरीघरारी थाना क्षेत्र में एक शव मिला है. फिर क्या परिजन तुरंत मुसरीघरारी थाना ये पता लगाने पहुंचे की कहीं वो उनका बच्चा तो नहीं. वहां पहुंचने के बाद उस परिजन को पता चला की पुलिस वालों ने शव को सदर अस्पताल पोस्टमार्टम करने भेज दिया है.

फिर तुरंत वो परिजन अपने बच्चे का शव लेने अस्पताल पहुंचे लेकिन वहां के पोस्टमॉर्टम कर्मी ने शव दिखाने से इंकार कर दिया. काफी मिन्नतों के बाद शव जब दिखाया तो पिता ने अपने पुत्र संजीव ठाकुर को पहचान लिया. अपने पुत्र को मृत देखर वो परिजन टूट गए. उसके बाद उस मृतक के पिता ने पोस्टमॉर्टम कर्मी से शव देने को कहा मगर उस पोस्टमॉर्टम कर्मी ने शव के बदले 50, 000 की मोटी रकम मांगी. मृतक के पिता उस पोस्टमार्टम कर्मी से काफी मिन्नतें की मगर उस पोस्टमॉर्टम कर्मी का दिल नहीं पिघला. बाद में उस लाचार मां बाप को भीख मांगना पड़ा. 

वहीं किसी ने भीख मांगने का वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर डाल दिया. इसके बाद अस्पताल प्रशासन की नींद टूटी और आनन-फानन में शव वाहन से लाश को माता-पिता के घर भेजा. बाद में सदर अस्पताल के सिविल सर्जन डॉ. एसके चौधरी ने मीडिया को बताया कि शव पाने के लिए माता-पिता के द्वारा भीख मांगने की घटना सामने आई है. इसको लेकर जांच टीम का गठन कर दिया गया हैं.