Movie prime
लोकसभा में छेदी पासवान ने स्वर्गीय कर्पूरी ठाकुर को भारत रत्न देने की उठाई मांग
 

सासाराम से भाजपा के सांसद छेदी पासवान ने सोमवार को लोकसभा के संसद सत्र में बिहार के ग्यारहवें मुख्यमंत्री स्वर्गीय कर्पूरी ठाकुर को भारत रत्न देने की मांग की. उन्होंने लोकसभा में आवास उठाते हुए कहा कि,  स्वर्गीय कर्पूरी ठाकुर को उचित सम्मान हेतु भारत रत्न से विभूषित करने के लिए लोकसभा में पुरजोर आवास उठाया. 

 

karpuri thakur

आपको बता दें कि कर्पूरी ठाकुर का जन्म 24 जनवरी 1924 को समस्तीपुर जिला के पितौंझिया गांव में हुआ था. कर्पूरी ठाकुर की बाल्यावस्था अन्य गरीब परिवार के बच्चों की तरह हीं बीता था. छह वर्ष की आयु में इनको गांव के ही पाठशाला में दाखिला कराया गया. स्वर्गीय कर्पूरी ठाकुर के अंदर बचपन से ही नेतृत्व क्षमता ने जन्म लेना शुरू कर दिया था. छात्र जीवन के दौरान युवाओं के बीच लोकप्रियता हासिल कर चुके स्व. कर्पूरी ठाकुर ने अंग्रेजो के खिलाफ मोर्चा खोल दिया. 

स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद 1952 के प्रथम आम चुनाव में वे समस्तीपुर के ताजपुर विधानसभा क्षेत्र से सोशलिस्ट पार्टी के टिकट पर भारी बहुमत से विजयी हुए. अपने दो कार्यकाल में कुल मिलाकर ढाई साल के मुख्यमंत्री रहे. अपने मुख्यमंत्री काल में इन्होंने जिस तरह की छाप बिहार के समाज पर छोड़ी वह बेमिसाल है. वह बिहार के पहले ‘गैर- कांग्रेसी मुख्यमंत्री थे. स्वर्गीय कर्पूरी ठाकुर मुख्यमंत्री बनने के बावजूद भी अपना घर नहीं खरीद पाए, इससे उनकी ईमानदारी और सादगी का पता चलता है.

karpuri thakur death anniversary : Jannayak Karpoori Thakur two time Chief  Minister of Bihar's but did not even have a home to give to the  family:परिवार को देने के लिए एक मकान