Movie prime
'अगर कुर्सी बनी रहती : मांझी कैबिनेट का लाभ सभी वर्गों के लोगों को जरूर मिलता'
 
हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (से०) के राष्ट्रीय प्रधान महासचिव डॉ दानिश रिजवान ने कहा कि हम के संस्थापक और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने कॉमन स्कूलिंग सिस्टम, किसानों को मुफ्त बिजली, गरीबों के मकान बनाने के लिए जमीन, क्लास वन से ग्रेजुएट तक बच्चों को नि:शुल्क शिक्षा, बेरोजगारों को 5000 बेरोजगारी भत्ता आदि निर्णय उन्होंने मुख्यमंत्री रहते जनहित में 34 निर्णय लिए थे।
 
डॉ दानिश ने कहा कि जीतन राम मांझी की सरकार कुछ दिन और उनकी सरकार सत्ता में रहती तो उनके कैबिनेट की बैठक से आम और गरीब लोगों को ध्यान में रखकर लिए गए 34 निर्णय, वह आज जमीन पर दिखता। जिसका लाभ सभी वर्गों के लोगों को जरूर मिलता। 
      
डॉ दानिश ने कहा कि माननीय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने हमारे 34 निर्णयों में आंशिक परिवर्तन कर कुछ निर्णय को उन्होंने अपने अस्तर से लागू भी किया है। हमारी पार्टी इस पहल के लिए उनकी सराहना भी करती रही है। लेकिन आज भी हमारी पार्टी के एजेंडे में वह 34 निर्णय है। सभी 34 निर्णयों को लागू कराना हम पार्टी नेताओं एवं कार्यकर्ताओं की पहली प्राथमिकता है। हमारी पहली प्राथमिकता पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी के मुख्यमंत्री काल में लिए गए 34 निर्णयों को जन-जन तक पहुंचाना और उसे लागू कराना है। हम अपने एजेंडे पर आज भी कायम है।