Movie prime
CM नीतीश के आवास के बाहर जदयू के नेता रो पड़े, कहा- मुझे मेरी पत्नी से बचाओ
 

जदयू के प्रदेश महासचिव अवधेश लाल अपने पूरे परिवार संग सीएम नीतीश कुमार के नए आवास 7 सर्कुलर रोड पर पहुंच गए. वहां पहुंचकर JDU नेता ने CM नीतीश कुमार से पत्नी से बचाने की गुहार लगाई है. अति पिछड़ा प्रकोष्ठ के प्रदेश महासचिव अवधेश कुमार ने कहा, 'मुझे मेरी पत्नी से बचाओ. पत्नी की नक्सलियों से साठगांठ है. वैसे अवधेश कुमार की मुलाकात मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से नहीं हो पाई जिसके बाद वो वहीं रो पड़े. 

Thumbnail image

आपको बता दें कि सीएम नीतीश कुमार के नए आवास 7 सर्कुलर रोड पर खड़े अवधेश लाल ने कहा है कि मेरा घर दरभंगा के मेकना गांव में पड़ता है. मेरी शादी साल 2006 में पकड़ी गांव में हुई थी. मनोज लाल दास माओवादी संगठन का पूर्व कमांडर रह चुका है, ये जैसा बोलता है वैसा मेरी पत्नी करती है. कई बार मामला कोर्ट थाना पंचायत में गया वहां कंप्रोमाइज कराया गया. 2012 में मनोज लाल ने एक झूठा मुकदमा करवा दिया 498 का. इस मामले में भी कोर्ट से कंप्रोमाइज हुआ था. लेकिन बार-बार मुझे और मेरे परिवार को झूठे मुकदमे में फंसाने की साजिश की जा रही है.

आगे उन्होंने बताया कि  '17 जनवरी को दादी का देहांत हो गया. वहीं 23 तारीख को मनोज लाल 50 के करीब नक्सलियों को लेकर पहुंचा और मेरे पूरे घर को घेर लिया. इसकी जानकारी मैंने स्थानीय थाना और पुलिस के वरीय अधिकारियों को दी, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई. अगले दिन DGP को कॉल किया तो उन्होंने कोरोना की बात कहकर मिलने से इनकार कर दिया'

उन्होंने आगे कहा कि, 'मंत्री मदन सहनी से बात की, फिर एसपी से बात की, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ. उल्टा यह कहा गया कि थाने ने इसलिए कोई कार्रवाई नहीं की, क्योंकि इससे उनकी बदनामी होती कि इतनी बड़ी संख्या में कैसे नक्सली पहुंच गए. 7 मई को पत्नी घर से 50 हजार रुपए और अन्य सामान लेकर चली गई. इसकी जानकारी पुलिस को दी गई. बाद में मनोज लाल ने मुझे और मेरे भाई के खिलाफ ही झूठा केस कर फंसाने की कोशिश की.' उन्होंने ये भी कहा कि, इसके पहले भी उन्होंने मुख्यमंत्री सचिवालय से लेकर कई जगह गुहार लगाई है, लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है. ऐसे में मुख्यमंत्री से ही न्याय की उम्मीद है.