Movie prime
बिहार के कई भाजपा नेता आतंकियों के निशाने पर, इंटेलिजेंस ब्यूरो ने किया खुलासा

बिहार के कई भाजपा नेता आतंकियों के निशाने पर हैं.  इसका खुलासा खुफिया एजेंसी इंटेलिजेंस ब्यूरो ने किया है. केंद्रीय गृह मंत्रालय की सूचना के बाद बिहार पुलिस मुख्यालय ने सभी जिलों को अलर्ट कर दिया 

 

बिहार के कई भाजपा नेता आतंकियों के निशाने पर हैं. जी हां इसका खुलासा खुफिया एजेंसी इंटेलिजेंस ब्यूरो ने किया है. केंद्रीय गृह मंत्रालय की सूचना के बाद बिहार पुलिस मुख्यालय ने सभी जिलों को अलर्ट कर दिया है. 

many bjp leaders of bihar on target of terrorists alert issued to all  districts asj | बिहार के कई भाजपा नेता आतंकियों के निशाने पर, सभी जिलों को  अलर्ट जारी, ये नेता

जानकारी के अनुसार आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट खुरासान प्रांत ने अपनी पत्रिका के नये एडिशन में भाजपा के खिलाफ हमले की बात लिखी है. इसे संगठन के ट्विटर हैंडिल पर शेयर किया गया था. साथ ही कई संगठन टेलीग्राम सहित मैसेजिंग एप पर भड़काऊ पोस्ट शेयर कर रहे हैं. इन बातों को ध्यान में रखते हुए हुए पुलिस मुख्यालय की तरफ से बिहार में सभी जिलों के एसएसपी और एसपी के साथ ही रेल पुलिस को सभी आवश्यक एहतियात बरतने का निर्देश दिया गया है.

वैसे आतंकियों के निशाने पर बिहार में भाजपा  के गिरिराज सिंह, अश्विनी चौबे, डॉ संजय जायसवाल, हरिभूषण ठाकुर बचौल सहित कई नेता है. ये नेता अपने बयान और हिंदुत्व के कारण चर्चा में बने रहते हैं. यही वजह है कि ये तमाम नेता अब आतंकियों के निशाने पर हैं और इन्हें लगातार उनसे खतरा बताया जा रहा है. 

BJP demands de-recognition of parties boycotting J&K local body elections |  Cities News,The Indian Express

वैसे अब ये सवाल उठता है कि इन नेताओं को सुरक्षा कैसे दी जाएगी.  तो आपको बता दें BSF के इंटेलिजेंस यूनिट से रिटायर्ड डिप्टी कमांडेंट ललित सिंह ने बताया है कि दिल्ली ज्वाइंट इंवेस्टिगेशन कमेटी (JIC) है. जो पूरी गोपनीयता बरतते हुए काम करती है. देश के और राज्यों के जितने भी काम करने वाले सूचना तंत्र हैं, आर्मी या पैरामिलीट्री फोर्स की इंटेलिजेंस टीम के पास जो भी सुरक्षा को लेकर सूचना आती है, उसे ज्वाइंट इंवेस्टिगेशन कमेटी के पास भेजा जाता है. नीड टू नो बेसिस पर जिन्हें सुरक्षा की जरूरत होती है, उनकी सुरक्षा के लिए सरकार को प्रस्ताव भेजते हैं. इसके बाद ही जरूरत मंद व्यक्ति को अलग-अलग श्रेणी के अनुसार सुरक्षा दी जाती है.