Movie prime
जाली नोट का अंतरराष्ट्रीय तस्कर सुधीर कुशवाहा गिरफ्तार, पाकिस्तान-चीन-मलेशिया से जुड़े तार
 

विशेष पुलिस की टीम ने मोतिहारी से जाली नोट के अंतरराष्ट्रीय तस्कर सुधीर कुशवाहा को गिरफ्तार किया है. जाली नोट के सरगना पर NIA ने दो लाख का इनाम रखा था। गिरफ्तार हुए अपराधी सुधीर कुशवाहा को लेकर चौंकाने वाले खुलासे हुए। खुलासा बेहद महत्वपूर्ण हैं. मोतिहारी में गिरफ्तार जाली नोट सरगना सुधीर कुशवाहा आतंकी संगठन का स्लीपर सेल निकला है. सुधीर का कनेक्शन नेपाल के अलावा पाकिस्तान, चीन, मलेशिया और दुबई से जुड़ा हुआ है.

Fake Currency notes mafia Sudhir Kushwaha arrested from Muzaffarpur NIA  announced reward of rupees 2 lakhs - देशभर में नकली नोट फैलाने वाला सुधीर  कुशवाहा बिहार से गिरफ्तार, NIA ने रखा था

जानकारी के मुताबिक जाली नोटों का सरगना सुधीर कुशवाहा पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI के स्लीपर सेल के तौर पर भारत में काम कर रहा था.  इस अपराधी की गिरफ्तारी गुरुवार को मोतिहारी के रास्ते पर की गयी. बता दें कि सुधीर कुशवाहा को नेपाल से मुजफ्फरपुर जाने के दौरान मुजफ्फरपुर और मोतिहारी पुलिस की मदद से गिरफ्तार किया गया. पकड़े जाने के बाद जब उससे पूछताछ हुई तो उसने इस बात की जानकारी दी कि वो स्लीपर सेल की तरह काम कर रहा था. सुधीर घोड़ासहन सहित नेपाल के तराई क्षेत्रों में अपना जाल फैला रहा था.

बता दें सुधीर के पास से गिरफ्तारी के वक्त पुलिस ने 1.54 लाख रुपए का जाली भारतीय नोट और एक अपाची बाइक बरामद की है। वहीं आरोपी फिर से अपने नेटवर्क को एक्टिव करने की कोशिश में था। गिरफ्तारी की सूचना पर देश की कई जांच एजेंसी मुजफ्फरपुर में पहुंचकर अपराधी से पूछताछ में जुटी हुई है.  एनआइए, रॉ, आइबी, एसएसबी और एसआरबी की टीम उससे लगातार पूछताछ कर रही है. वहीं कई अहम खुलासे भी हुए हैं. इसके आधार पर जांच टीम आगे की कार्रवाई में जुटी हुई है.

गौरतलब है कि सुधीर पहली बार 2005 में दिल्ली के एक आवासीय होटल से गिरफ्तार हुआ था. दिल्ली क्राइम ब्रांच की टीम ने उसे जाली नोटों के साथ गिरफ्तार किया था। साक्ष्य के अभाव में जमानत हुआ और उसके बाद से वो फरार हो गया। उसकी देश विरोधी गतिविधियां सामने आने पर एनआइए भी इस मामले की जांच में जुटी थी। 2014 में मोतिहारी पुलिस ने सुधीर को 21 सेलफोन के साथ गिरफ्तार किया था. उस वक्त भी उसका कनेक्शन एक अन्य आतंकी गिरोह से जुड़े होने की बात सामने आई थी.  2016 में घोड़ासहन रेल ट्रैक पर हुए कुकर बम ब्लास्ट मामले में भी सुधीर का नाम सामने आया था. इन सभी मामलों में सुधीर कुशवाहा फरार चल रहा था और वांटेड अपराधी था। NIA ने वांटेड आरोपी सुधीर के ऊपर साल 2021 में दो लाख का इनाम घोषित किया था. बता दें कि आरोपी कोयला का काम करता था, लेकिन उसकी आड़ में वो जाली नोट का रैकेट चला रहा था.