Movie prime
विवाह में दहेज बना बाधा तो लड़का जा पहुंचा लड़की के घर, गांव के मंदिर में रचाई शादी
 

दहेज प्रथा हमारे समाज की सबसे कुरीति है और इसपर रोक के बावजूद यह प्रथा अब भी खूब फल-फूल रही. लेकिन हां, कुछ युवा इसे लेकर जागरूकता जरूर हो गए हैं.अक्सर हमें ऐसी कई खबरें सुनने को मिल ही जाती हैं, जो दहेज लोभियों के लिए करारा तमाचा होती हैं. बिहार के जमुई जिले में हुई एक अनोखी शादी चर्चा का विषय है. 

दहेज के कारण शादी में देरी होते देख युवक ने अपने घरवालों से बगावत कर दी और लड़की के घर जा पहुंचा, यहां गांववालों ने आपसी रजामंदी से दोनों की शादी करवा दी. मामला सिकन्दरा इलाके के जखड़ा गांव की है. ग्रामीणों की मैजूदगी में गांव के मंदिर में हुई इस शादी के बाद दूल्हा और दुल्हन को सभी ने अपना आशीर्वाद दिया.

मिली जानकारी के मुताबिक सदर प्रखंड के नारडीह के रहने वाले 23 वर्षीय विकास ठाकुर की शादी जखड़ा की 21 वर्षीय ज्योति से तय हुई थी. विकास के पिता ने वधू पक्ष से दहेज के रूप में दो लाख रुपये की मांग रखी थी. रकम मिलने में देरी होने पर वर पक्ष ने शादी तोड़ने की धमकी दी. लड़की के मजदूर पिता कैलाश ठाकुर ने दहेज की रकम देने में असमर्थता जताते हुए दिसंबर में शादी करने का अनुरोध किया.

लेकिन इस बीच शुक्रवार की रात विकास लड़की के घर पहुंच गया और शादी की जिद करने लगा. यह देख ग्रामीणों ने बगैर देर किए शनिवार को गांव के मंदिर में रीति-रिवाज के अनुसार दोनों की शादी करवा दी. घर से बगावत कर दहेज लिए बगैर शादी करने वाले विकास ने अपनी नई नवेली दुल्हन ज्योति को जिंदगी की हर परिस्थिति में साथ देने का वादा किया.