Movie prime
बिहार में बीजेपी के कई नेताओं को दी गई Y श्रेणी की सुरक्षा, प्रदर्शन के दौरान हुआ था घरों पर हमला
 


अग्निपथ स्कीम को लेकर बिहार में छात्रों के निशाने पर आए बीजेपी नेताओं की सुरक्षा अब केंद्र सरकार करेगी. बीजेपी के 12 नेताओं की सुरक्षा का जिम्मा केंद्र सरकार ने उठाया है. केंद्र की तरफ से अब फैसला लिया गया है कि बिहार बीजेपी के 12 नेताओं को Y केटगरी की सुरक्षा दी जाएगी.

जिन नेताओ को वाई श्रेणी की सुरक्षा दी गयी है उनमें बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल, संजीव चौरसिया, हरी भूषण ठाकुर बचौल,अररिया सांसद प्रदीप सिंह, दरभंगा सांसद गोपालजी ठाकुर, एमएलसी अशोक अग्रवाल, एमएलसी दिलीप जायसवाल, डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद, रेणु देवी, संजय सरावगी, पूर्णिया विधायक विजय खेमका का नाम शामिल हैं. इन नेताओं की सुरक्षा में सीआरपीएफ लगेगी.

दरअसल, विरोध-प्रदर्शन के दौरान छात्रों ने डिप्टी सीएम रेणु देवी और प्रदेश बीजेपी अध्‍यक्ष डॉ. संजय जायसवाल के घर को निशाना बनाया था. वहीं, पटना में पत्रकारों के बातचीत के दौरान बीजेपी प्रदेश अध्‍यक्ष ने शनिवार को कहा था कि विरोध-प्रदर्शन के दोरान बीजेपी को टारगेट किया जा रहा है. नवादा समेत तीन जिलों में बीजेपी के दफ्तर जला दिए गए, लेकिन वहां पर पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं. 

दरअसल आज ही संजय जायसवाल ने प्रेस कांफ्रेंस कर कहा था कि पुलिस और प्रशासन की साजिश से बिहार में जमकर उपद्रव हुआ. ऐसा पूरे देश में कहीं नहीं हुआ, जैसा बिहार में हुआ और पुलिस तमाशा देखती रही. बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल ने कहा-साजिश के तहत बीजेपी को टारगेट किया गया ये बहुत गलत हो रहा है. संजय जायसवाल बोले कि मैं बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष की हैसियत से बोल रहा हूं-इस तरह की घटनायें अगर नहीं रूकी तो ये अच्छा नहीं होगा.

उन्होंने कहा कि बिहार में  तीन दिनों तक प्रदर्शन के नाम पर गुंडागर्दी हुई और प्रशासन खामोश देखता रहा. जो कुछ बिहार मे हो रहा है वह छात्रों द्वारा नहीं किया जा रहा है. ये पूरी साजिश है. प्रशासन का काम होता है गुंडागर्दी को रोकना. हमने कल तक गलती से भी नहीं सुना कि कहीं पर लाठीचार्ज किया गया है या कहीं पर आंसू गैस चलाया गया है.

संजय जायसवाल ने यहां तक कहा कि 300 पुलिसकर्मियों के रहते हमारे मधेपुरा कार्यालय को जला दिया गया. हमारे नवादा कार्यालय को भी तोड़ा गया तो वहां भी पुलिसकर्मी थे. बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष ने मीडियाकर्मियों को वीडियो फुटेज दिखाते हुए कहा-मेरे घर पर हमला कर उसे सिलेंडर बम से उड़ाने की साजिश की गयी थी. वहां सिलेंडर बम पड़ा मिला लेकिन पुलिसकर्मियों ने उसे वहां से हटा दिया. संजय जायसवाल ने कहा कि रेलवे के अधिकारी का बयान है कि जब ट्रेन में आग लगा दिये जाने के बाद फायर ब्रिगेड को कॉल किया गया तो उसने आने से मना कर दिया. इसके बाद केंद्रीय गृह मंत्रालय ने बीजेपी नेताओं की सुरक्षा का जिम्मा अपने ऊपर लिया है. 

बीजेपी नेताओं की सुरक्षा ऐसे वक्त में बढ़ाई गई है जब सेना में भर्ती के लिए केंद्र सरकार की अग्‍न‍िपथ योजना का विरोध चल रहा है. केंद्रीय गृह मंत्रालय के इस फैसले से यह साफ है कि बीजेपी के जिन नेताओं को Y कैटेगरी की सुरक्षा दी गई है. उनकी सुरक्षा को लेकर केंद्र सरकार को नीतीश सरकार के ऊपर भरोसा नहीं है.