Movie prime
शराबबंदी पर CM के बचाव में उतरे मंत्री संजय झा, कहा- नए जेनरेशन को बचाने के लिए लिया था फैसला
 

बिहार में शराबबंदी को लेकर सरकार पर हो रहे हमले के बीच सरकार के मंत्री संजय झा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का स्टैंड लेते दिखे। दरअसल, राज्य में शराबबंदी के कारण बड़ी संख्या में लोगों की जान जा रही है। इसे लेकर सरकार दबाव में है। पहले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने समीक्षा बैठक किया। वहीं अब 26 नवंबर को मद्य निषेध दिवस पर एक बार फिर से लोगों को शपथ दिलाने की तैयारी चल रही है। लेकिन इस बीच विपक्ष सरकार पर हमलावर है। वहीं अब संजय झा ने शराबबंदी कानून की तरफदारी की है। 

अपने ही विधायकों के आरोप पर सफाई दे रहे हैं BJP मंत्री- https://youtu.be/AYVUs9PzohU

मंत्री संजय झा ने शराबबंदी को मुख्यमंत्री का बोल्ड डिसीजन बताया। कहा कि सबको पता है कि ओपन बॉर्डर है। मुख्यमंत्री ने नए जेनरेशन को बचाने का फैसला लिया है। इसलिए इसे चुनौती के रूप में स्वीकार किया है। संजय झा ने कहा कि बड़े स्तर पर देखें तो बिहार में शराबबंदी कानून पूरी तरह से सफल है। ग्रामीण इलाकों में भी साफ असर दिख रहा है। तमाम लोगों को लाभ मिला है। यदि कुछ कमियां रह गई है तो उसे दूर करने का लगातार प्रयास किया जा रहा है।

JDU नेता नीरज ने लालू से क्या मांग दिया- https://youtu.be/0qjDoiU1w34

वहीं विपक्ष पर निशाना साधते हुए संजय झा ने कहा कि विपक्ष को शराबबंदी को हल्का नहीं बनाना चाहिए। वहीं भाजपा विधायक हरिभूषण ठाकुर के बयान पर कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गांधी मैदान में शराबबंदी को लेकर मुख्यमंत्री की तारीफ की थी, ऐसे में बचौल को देखना चाहिए था। संजय झा ने कहा कि मद्य निषेध दिवस पर एक बार फिर से सब को शपथ दिलाने की तैयारी है, जिससे पुरानी यादें फिर से ताजा हो जाएंगी। 

कोरोना की दूसरी डोज लेने पर सरकार देगी ये तौफा- https://youtu.be/iFTmsHLMl3E

गौरतलब है कि हरिभूषण ठाकुर ने कहा था कि जब कृषि कानून वापस लिए जा सकते हैं तो शराबबंदी कानून क्यों नहीं। यही नहीं उन्होंने कहा था कि बिहार में शराबबंदी लाने में सरकार पूरी विफल है। बचौल ने कहा था, " इंजीनियर और डॉक्टर पकड़े जा रहे हैं। पुलिस वाले खुलेआम शादी विवाह में जाकर छापेमारी कर रहे हैं। इस तरह की बातों से राज्य की छवि खराब हो रही है। अन्य राज्य में बिहार के बारे में गलत संदेश जा रहा है। इसलिए मुख्यमंत्री को शराबबंदी कानून खत्म करने के बारे में विचार करना चाहिए। "