Movie prime
जिसका डर था वही हुआ!
 

बिहार, यूपी, झारखंड से लेकर दिल्‍ली, बंगाल, गुजरात, तेलंगाना और कश्‍मीर तक आज अशांत रहा. कहीं प्रदर्शन ने हिंसा का स्वरुप लिया तो कहीं यह टायर जलाने और नारेबाजी तक सीमित रहा. इस प्रदर्शन की आग ने सबसे अधिक रांची को झुलसाया। प्रयागराज और हावड़ा में भी स्थिति गंभीर बनी हुई थी. 
   
झारखण्ड के रांची में शुक्रवार को हिंसक प्रदर्शन हुआ. आगजनी और पथराव के चलते पुलिस को फायरिंग तक करनी पड़ी। इस फायरिंग में 35 साल के व्यक्ति की मौत हो गई। 7 अन्य लोगों को गोली लगी है। प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर जमकर पथराव किया। SSP समेत 3 पुलिसकर्मी को चोटें आई हैं। रांची में मौजूद बिहार सरकार के मंत्री भी इसके चपेट में आ गए.

दरअसल प्रदर्शन के दौरान गाड़ियों में जबरदस्त तोड़फोड़ की गयी. इस बीच बिहार सरकार में मंत्री नितिन नवीन हंगामे के बीच कहीं जा रहे थे इसी दौरान प्रदर्शनकारियों ने उन पर हमला बोल दिया. आक्रोशित प्रदर्शनकारियों ने रांची की मुख्य सड़क पर जगह-जगह की गई बेरिकेडिंग को तोड़ने की कोशिश की. पुलिस प्रशासन ने उन्हें रोकने की कोशिश की तो प्रदर्शनकारियों ने पुलिस बल पर पथराव शुरू कर दिया. अल्बर्ट एक्का चौक से मंत्री नितिन नवीन का काफिला गुजर रहा था. इसी दौरान प्रदर्शनकारियों ने उनके काफिले पर हमला बोल दिया. हालांकि इस हमले में वे बाल-बाल बच गए. रांची के प्रभावित इलाके में ऐहतियातन धारा 144 लागू कर दी गई है.

देश भर में हुआ प्रदर्शन: यूपी, झारखंड, बिहार से लेकर दिल्‍ली, बंगाल, गुजरात, तेलंगाना और कश्‍मीर तक प्रदर्शनकारियों ने जमकर बवाल काटा.

उत्तरप्रदेश: वही हुआ जिसका डर था. कानपुर हिंसा के सातवें दिन शुक्रवार को कई शहरों में हिंसा भड़क गई. प्रयागराज में हालात सबसे ज्यादा खराब हो गए. पथराव में डीएम, एसएसपी, एडीजी, आईजी घायल हो गए. एसपी की गाड़ी टूट गई है. पीएसी के वाहन समेत 7 से ज्यादा गाड़ियों को फूंक दिया गया. प्रयागराज में हालात इतने बिगड़ गए कि एडीजी को बंदूक उठानी पड़ी. अब यहां दो बुलडोजर मंगाए गए हैं, जो बवाल में शामिल लोगों के अवैध निर्माण को ध्वस्त करेंगे। अधिकारियों ने लोगों से उनके घरों से जुड़े कागज मांगे हैं. 

मुरादाबाद और सहारनपुर में भी भीड़ हिंसक हो गई. पथराव के बाद पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा. उत्तर प्रदेश के एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने बताया कि शाम 7:30 तक 109 उपद्रवी गिरफ्तार किए गए. इनमें सहारनपुर से 38, हाथरस से 24, अंबेडकरनगर से 23, प्रयागराज से 15, मुरादाबाद से 7, फिरोजाबाद से 2 आरोपियों की गिरफ्तारी हुई है. हिंसा के बाद सीएम योगी ने दंगाइयों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए हैं. गृह विभाग ने सभी डीएम से रिपोर्ट मांगी है.

पश्चिम बंगाल: हावड़ा में प्रदर्शनकारियों ने पुलिस वैन और पुलिस बूथ में आग लगाई थी. इस दौरान उपद्रवियों ने भारतीय जनता पार्टी के दफ्तर में तोड़फोड़ के बाद आग लगा दी. लोगों ने हावड़ा-खड़गपुर रेल मार्ग पर दासनगर रेलवे स्टेशन के पास भी विरोध प्रदर्शन किया. प्रदर्शनकारियों की धूलागढ़, पंचला और उलूबेरिया में पुलिस के साथ तब झड़प भी हुई. स्थिति अभी भी तनावपूर्ण बनी हुई है. प्रशासन ने स्थिति को देखते हुए हावड़ा जिले में 13 जून सुबह 6 बजे तक इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई हैं. 

इसके अलावा बिहार के आरा, नवादा और अन्य जिलों में भी जमकर प्रदर्शन देखने को मिला. कश्मीर के श्रीनगर में भी लोगों ने प्रदर्शन किया. महाराष्ट्र के नवी मुंबई में तो बड़ी संख्या में महिलाएं भी सड़कों पर उतरीं हालांकि राहत की बात रही कि देश भर में 2-3 स्थानों को छोड़ स्थिति बेकाबू नहीं होने पाई और प्रशासन ने हालात को संभाल लिया.