Movie prime
गुजरात विधानसभा की पहली महिला अध्यक्ष बनी नीमाबेन आचार्य
 

गुजरात विधानसभा में डॉ नीमाबेन आचार्य को सर्वसम्मति से अध्यक्ष चुन लिया गया. वे गुजरात विधानसभा की पहली महिला अध्यक्ष बनी हैं. गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने अध्यक्ष पद के लिए उनके नाम का प्रस्ताव रखा और विपक्ष के नेता परेश धनानी ने कांग्रेस की ओर से सहमति दी, जिसके 182 सदस्यीय सदन में 65 विधायक हैं.

आपको बता दे कि नीमाबेन आचार्य के अध्यक्ष बनने पर गुजरात के मुख्यमंत्री  भूपेंद्र पटेल ने कहा कि, ‘1960 में गुजरात के गठन के बाद राज्य विधानसभा में पहली बार अध्यक्ष कोई महिला हैं. मैं उन्हें पूरे सदन की ओर से बधाई देता हूं.’’ बता दे आचार्य इससे पहले गुजरात परिवार नियोजन परिषद की अध्यक्ष रह चुकी हैं. उन्होंने अपनी राजनीति की शुरूआत कांग्रेस से की थी और इसी पार्टी के टिकट पर 2002 और 2007 का चुनाव लड़ा था. हालांकि 2007 के राष्ट्रपति चुनाव में तत्कालीन उपराष्ट्रपति भैरोसिंह शेखावत जब निर्दलीय चुनाव में खड़े हुए थे तब उनके पक्ष में मतदान करने के कारण आचार्य को पार्टी विरोधी गतिविधि के आरोप में कांग्रेस से निलंबित कर दिया गया.

तब आचार्य के पति और छह नगर सेवकों ने कांग्रेस से भाजपा का दामन थाम लिया, तो आचार्य उनके पीछे-पीछे भगवा पार्टी में शामिल हो गईं. 2009 के लोकसभा चुनावों के दौरान पूर्व विधायक कांति अमृतिया के साथ मोरबी मजिस्ट्रेट ने उन्हें भी मतदाताओं को पैसे से खरीदने के जुर्म में उन्हें एक साल की जेल की सजा सुनाई थी.