Movie prime
पंजाब कैबिनेट का हुआ विस्तार,15 मंत्रियों ने ली शपथ
 

पंजाब के नए मंत्रियों का शपथ ग्रहण जारी है. चंडीगढ़ में मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी की कैबिनेट के सदस्य पद और गोपनियता की शपथ ले रहे हैं. वहीं गवर्नर बनवारी लाल पुरोहित ने कांग्रेस पार्टी के सीनियर नेता और पटियाला ग्रामीण के विधायक ब्रह्म मोहिंद्रा को कैबिनेट मंत्री के तौर पर शपथ दिलाई है. ब्रह्म मोहिंद्रा के बाद मनप्रीत सिंह बादल को शपथ दिलाई गई. मनप्रीत सिंह बादल पांच बार के विधायक हैं। मनप्रीत सिंह बादल बठिंडा से विधाक है. उन्होंने 2016 में अपनी पार्टी का कांग्रेस में विलय किया था.

इतना ही नहीं राज्यपाल बनवारी लाल पुरोहित ने तृप्त राजिंदर सिंह बाजवा को तीसरे नबंर पर मंत्री पद की शपथ दिलाई. बाजवा फतेहगढ़ चूड़ियां से विधायक हैं. वो अबतक चार बार विधायक चुने जा चुके हैं और पूर्व में पंजाब के ग्रामीण विकास मंत्री भी रह चुके हैं. वहीं तृप्त राजिंदर सिंह बाजवा के बाद राज्यपाल बनवारी लाल पुरोहित ने तीन बार की विधायक अरुणा चौधरी को मंत्री पद की शपथ दिलाई. अरुणा चौधरी को पंजाब के कैबिनेट मंत्री के तौर पर शपथ दिलाई गई. अरुणा चौधरी पंजाब की दिनानगर सुरक्षित सीट से विधायक हैं और अबतक तीन बार विधायक चुनी जा चुकी हैं. वो राज्य में महिला-बाल विकास मंत्री रह चुकी हैं.

राज्यपाल बनवारी लाल पुरोहित ने सुखबिंदर सरकारिया को मंत्री पद की शपथ दिलाई. सुखबिंदर सरकारिया, पंजाब कांग्रेस के उपाध्यक्ष और राजा सांसी से विधायक हैं. सुखबिंदर सरकारिया तीन बार के विधायक हैं. सुखबिंदर सरकारिया पूर्व में शहरी और विकास मंत्री रह चुके हैं. उसके बाद राज्यपाल बनवारी लाल पुरोहित ने राणा गुरजीत सिंह को कैबिनेट मंत्री पद की शपथ दिलाई. राणा गुरजीत सिंह कपूरथला से विधायक हैं और तीसरी बार विधायक बने हैं. राणा गुरजीत सिंह सांसद भी रहे हैं. अभी रजिया सुल्ताना को भी मंत्री पद की शपथ दिलाई गई. रजिया सुल्ताना मलेरकोटला से विधायक हैं. रजिया सुल्ताना पूर्व परिवहन मंत्री रह चुकी है और 3 बार से विधायक हैं.

वहीं राज्यपाल ने विजय इंदर सिंगला को भी मंत्री पद की शपथ दिलाई. विजय इंदर सिंगला कैप्टन अमरिंदर सिंह के बेहद करीबी थे. हिंदू चेहरा हैं. पहली बार के विधायक हैं. संगरूर से सांसद रह चुके हैं. इतना ही नहीं राज्यपाल ने भारत भूषण आशु को भी शपथ दिलाई. भारत भूषण आशु अमरिंदर सिंह की सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे. संगठन में अच्छी पकड़ रखते हैं. लुधियाना पश्चिम सीट से दो बार के विधायक भी हैं. वहीं रणदीप सिंह नाभा को भी मंत्री पद की शपथ दिलाई गई. रणदीप सिंह नाभा पहली बार मंत्री बने. चार बार विधायक का चुनाव जीत चुके हैं. राजकुमार वेरका ने भी मंत्री पद की शपथ ली। राजकुमार वेरका तीसरी बार विधायक बने. राजकुमार वेरका कांग्रेस का दलित चेहरा और अमृतसर वेस्ट से विधायक हैं.   

उर्मर से विधायक संगत सिंह गिलजियान ने मंत्री पद की शपथ ली. संगत सिंह गिलजियान, पिछड़े वर्ग का बड़ा कांग्रेस चेहरा और प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष हैं. वहीं जालंधर कैंट सीट से विधायक और हॉकी टीम के पूर्व कप्तान परगट सिंह को भी मंत्री पद की शपथ दिलाई गई. परगट सिंह नवजोत सिंह सिद्धू के करीबी माने जाते हैं. इतना ही नहीं गिद्दरबाहा से विधायक अमरिंदर सिंह राजा वारिंग को भी मंत्री पद की शपथ दिलाई गई है. अमरिंदर सिंह राजा वारिंग यूथ कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष रहे हैं और नवजोत सिंह सिद्धू के करीबी माने जाते हैं. खन्ना सीट से विधायक गुरकीरत सिंह कोटली को मंत्री पद की शपथ दिलाई गई है. छात्र राजनीति से आए गुरकीरत सिंह कोटली बेअंत सिंह के पोते हैं.