Movie prime
Breaking News: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने स्वीकारा, कहा- कल हुई है मेरी प्रशांत किशोर से मुलाकात
 

नीतीश कुमार ने अब चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर को फिर से अपने पाले में लाने के लिए कवायद शुरू की है. जहां एक तरफ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जेडीयू के पूर्व राज्यसभा सांसद पवन वर्मा को अपने आवास बुलाकर प्रशांत किशोर को अपने पाले में लाने के लिए उन्हें जिम्मेदारी दी तो दूसरी तरफ मंगलवार की शाम चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने खुद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के आवास पर जाकर मुलाकात की है. जानकारी के अनुसार दोनों नेताओं के बीच करीब दो घंटे तक बातचीत हुई है. प्रशांत किशोर के साथ पूर्व राज्यसभा सांसद पवन वर्मा भी मौजूद थे. वैसे इस बात की कोई आधिकारिक पुस्टि नहीं हुई थी मगर अब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने खुद स्वीकारा हैं कि उन्होंने प्रशांत किशोर से मुलाकात की है.वैसे प्रशांत किशोर की बात करे तो उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश से मुलाकात की पुस्टि नहीं की है. 

 

Prashant Kishor hits back at Nitish Kumar with 4 photo-tweet. Then deletes  it | Latest News India - Hindustan Times

 

वैसे बता दें मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रशांत किशोर को अपने पाले में लाने के लिए पवन वर्मा को जिम्मेदारी सौंपी है। वैसे बता दें सोमवार देर शाम नीतीश कुमार पवन वर्मा को अपने आवास पर बुलाकर मुलाकात की और प्रशांत किशोर को मनाने को कहा है। गौरतलब है कि कुछ दिन पहले ही नीतीश कुमार ने कहा था कि प्रशांत किशोर को बिहार का ABC नहीं मालूम है. पीके बीजेपी से मिले हुए हैं. अब खबर है कि नीतीश कुमार ने पवन वर्मा को ये जिम्मा दिया है कि वे प्रशांत किशोर से बात कर जेडीयू के 'मिशन 2024' के लिए काम करने को मनाएं.

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, सोमवार देर शाम नीतीश कुमार और पवन वर्मा के बीच लंबी बातचीत हुई. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, नीतीश कुमार मिशन 2024 के लिए प्रशांत किशोर को अपने साथ लाना चाहते हैं. पवन वर्मा प्रशांत किशोर के बेहद करीबी माने जाते हैं. यही कारण है कि नीतीश कुमार प्रशांत किशोर को मनाने के लिए पवन वर्मा को आगे किया है. बता दें कि पवन वर्मा पूर्व राजनयिक रहे हैं. नीतीश कुमार ने उन्हें अपनी पार्टी से राज्यसभा सांसद बनाया था. बाद में पवन वर्मा ने जेडीयू छोड़कर ममता बनर्जी के टीएमसी में शामिल हो गए थे. जिस वक्त पवन वर्मा ने पार्टी छोड़ा था, उस समय प्रशांत किशोर भी नीतीश से खुलकर अपनी नाराजगी जता रहे थे.