पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था गिरि धराम, वहां की जनता महंगाई से कर रही है त्राहिमाम

  • द्वारा

हर स्तर से कमजोर पड़ा पाकिस्तान को अब आर्थिक तंगी सताने लगी है. जिसका नतीजा है कि पाकिस्तान की जनता महंगाई की मार से त्राहिमाम कर रही है. बता दें कि वहां पर मई महीने से खाद्य पदार्थों और ईंधन के दामों में काफी ज्यादा बढ़ोतरी किया गया है. ऐसी कई वस्तुएं हैं जिसपर सरकार ने दाम बढ़ाया है. पाकिस्तान की जीवन शैली और कार्य व्यवस्था धराम से गिरती हुई नजर आ रही है. वहां पर महंगाई की वार्षिक उपभोक्ता मुद्रास्फीति एक माह पहले की 8.82 प्रतिशत की तुलना में बढ़कर 9ण.11 प्रतिशत पर पहुंच गई.

आलोच्य अवधि में खाद्य पदार्थों में प्याज के दाम 77ण.52 प्रतिशत, तरबूज 55.73, टमाटर 46.11, नींबू 43.46 और चीनी 26ण.53 प्रतिशत मंहगी हो गई. वहीं लहसुन 49.99, मूंग 33.65, आम 28.99 और मटन के दाम 12.04 प्रतिशत बढ गए. हम बात करे ईंधन की तो इसमें गैस के दाम में 85.31 प्रतिशत पेट्रोल 23.63 प्रतिशत हाई स्पीड डीजल की कीमत में 23.86 प्रतिशत की वृद्धि हुई है. जबकि बस का किराया 51.16, बिजली 8.48 और मकान किराये में 6.15 प्रतिशत तक की बढ़ोतरी देखने को मिल रही है.