Movie prime
पटना के विश्वेशरैया भवन में दो दिनों तक कर्मियों और लोगों के प्रवेश पर रोक
 

पटना के विश्वेशरैया भवन में बुधवार की सुबह आग लग गई. ये आग विश्वेशरैया भवन के तीसरे और चौथे मंजिल पर लगी. इतना ही नहीं आग धीरे-धीरे 6वीं मंजिल तक पहुंच गई. दमकल की गाड़ियां आग पर काबू पाने की कोशिश में लगी रही. फिर काफी समय बाद उसपे काबू पाया गया. वहीं अब जो जानकारी सामने आई है उसके मुताबिक विश्वैश्वरैया भवन में लगी आग के धुएं से दम घुटने से एक सफाई कर्मी की मौत हो गई है. बताया जा रहा है कि जिस वक्त आग लगी सफाई कर्मी वहीं फंस गया था. धुएं की वजह से उसका दम घुट गया और उसकी मौत हो गई. 

विश्‍वेश्‍वरैया भवन में आग से हुआ है काफी नुकसान। जागरण

आपको बता दें कि विश्वेशरैया भवन में आग लगने के बाद सरकार के आदेश पर आज से दो दिनों तक यानी 12 और 13 मई को इस भवन में कर्मियों और लोगों के प्रवेश पर रोक लगा दी गई है. जी हां सुरक्षा के दृष्टिकोण से आयुक्त, पटना प्रमंडल सह सचिव, भवन निर्माण विभाग रवि ने यह आदेश दिया है. जारी किए गए आदेश में कहा गया है कि विश्वेश्वरैया भवन स्थित कार्यालयों के कर्मियों के साथ-साथ आम लोगों के लिए भी विश्वेश्वरैया भवन में प्रवेश वर्जित रहेगा. आग पर नियंत्रण पा लिया गया है.

Visvesvaraya Bhavan Fire: जिस 7वें फ्लोर का सीएम नीतीश के हाथों आज उद्घाटन  होने की थी संभावना, वह आग में तबाह - visvesvaraya bhavan fire incident  newly built 7th floor destroy chief

वैसे बता दें विश्वेश्वरैया भवन में बुधवार की सुबह लगी आग के बाद विपक्ष ने सरकार पर निशाना साधा. जी हां बुधवार को राष्ट्रीय जनता दल के नेता तेजस्वी यादव ने विश्वेशरैया भवन में लगी आग पर सवाल खड़ा करते हुए आपदा प्रबंधन पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि यह आग  किसने लगवाई, यह भी पता नहीं. तेजस्वी ने कहा कि जब राबड़ी देवी बिहार की मुख्यमंत्री थीं तो उन्होंने विभाग को कई-कई फायर ब्रिगेड की गाड़ियां दी थी. लेकिन अभी आपदा प्रबंधन जिस हालत में है, वो आप देख सकते हैं.

तो वहीं दूसरी तरफ लालू यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव ने भी सरकार पर इसको लेकर निशाना साधा. जी हां तेजप्रताप यादव ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि, "पूरा फाइल घोटाला वाला जला दिया ई सब…
 

Read more at: https://newshaat.com/national-news/IAS-Pooja-Singhal-and-her-husband-Abhishek-Jha-arrested-ED/cid7381363.htm