Movie prime
RJD कार्यालय में लगाया जा रहा है कभी न बुझने वाला लालटेन, नीतीश सरकार के खिलाफ पहले भी हुआ है 'लालटेन' का इस्तेमाल
 

देश अब तक के सबसे बड़े बिजली संकट से जूझ रहा है। कई राज्यों में बिजली संकट की खबरें आ रही हैं। कहा जा रहा है कि ज्यादा दिन की बिजली ना होने की वजह से दिक्कत आ रही है और बिजली का उत्पादन कोयला संकट की वजह से अटका हुआ है।दरअसल, कोयले की कमी की वजह से बिजली का उत्पादन प्रभावित हुआ है और अब बिजली संकट गहराता जा रहा है। ऐसे में कई राज्यों ने पावर कट का ऐलान भी किया है और बिजली बचाने के लिए कटौती की जा रही है। वहीं बिजली संकट का कहर बिहार में भी देखने को मिल रहा है। राज्य के छोटे शहरों और ग्रामीण इलाकों में 8 से 10 घंटे तक बिजली की कटौती हो रही है। सबसे ज्यादा असर उत्तर बिहार के जिलों पर पड़ा है।

राज्य में बिजली संकट को लेकर सूबे के मुखिया नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार में बिजली की आपूर्ति में आई कमी को पूरा करने के लिए राज्य सरकार ने वैकल्पिक व्यवस्था की है और दूसरे जगहों से महंगी बिजली खरीदकर 5500-5600 मेगावाट रोजाना की मांग को पूरा किया जा रहा है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार खुद इस बात का ऐलान कर चुके हैं कि किसी भी हालत में बिहार के अंदर पावर कट नहीं होने दिया जाएगा। लेकिन इस दावे के बावजूद बिहार का शायद ही कोई ऐसा शहर है, जहां हाल के दिनों में लोड शेडिंग नहीं हो रही। 

वहीं दूसरी ओर राजद ने फैसला किया है कि लालटेन हमेशा जलती रहेगी। दरअसल, राष्ट्रीय जनता दल की तरफ से प्रदेश कार्यालय में 6 टन की एक लालटेन लगाने की तैयारी हो रही है। यह लालटेन चौबीसों घंटे जलती रहेगी। इससे पार्टी कार्यालय और रोशन रहेगा और साथ ही साथ लोगों को यह लालटेन एहसास भी दिलाएगी कि राजद का वजूद बिहार की राजनीति में अभी खत्म नहीं हुआ है। बता दें, राजद का चुनाव चिन्ह लालटेन रहा है। लालटेन को लेकर बिहार में अक्सर सियासत भी देखने को मिलती है। राजद के विरोधी अक्सर इस बात को लेकर ताना मारते हैं कि बिहार में लालटेन का युग खत्म हो चुका है। लेकिन अब इसी लालटेन के सहारे राजद एक बार फिर बड़ा मैसेज देने की तैयारी में है। प्रदेश राजद कार्यालय को इन दिनों नया रंग रूप दिया जा रहा है और यहीं पर यह 6 टन की लालटेन लगाई जाएगी। 

राजद कार्यालय में जिस बड़ी लालटेन का निर्माण कराया जा रहा है। वह पत्थर से बनी हुई होगी। मतलब यह है कि इस लालटेन की लौ कभी बुझने ना पाए, इसके लिए गैस या दूसरे वैकल्पिक इंतजामों के तहत लौ को हमेशा जलाए रखने की भी तैयारी है। हाल के दिनों में प्रदेश राजद कार्यालय में कई बदलाव हुए हैं। राजद दफ्तर पहले से हाईटेक हुआ है। लेकिन अब लाइटिंग के निर्माण से अब कार्यकर्ताओं और नेताओं को बढ़ा मैसेज देने की तैयारी है। बहरहाल, यह पहला मौका नहीं है जब राजद ने लालटेन का सहरा लेकर सत्ता में बैठे लोगों के खिलाफ मोर्चा खोला हो। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने बिहार विधानसभा चुनाव से कुछ महीने पहले बिहार में बढ़ती बेरोजगारी के खिलाफ 9 अगस्त को 9 बजे 9 मिनट का सांकेतिक विरोध किया था। राजद नेता तेजस्वी यादव ने लोगों से अपील की थी कि रात के नौ बजे नौ मिनट के लिए सभी अपने घर में बल्ब आदि बन्द कर के लालटेन और दीये जलाएं। 

महाअष्टमी के दिन देवी पूजा करते दिखे CM नीतीश- https://newshaat.com/bihar-local-news/cm-nitish-was-seen-worshiping-goddess-on-the-day-of-maha-as/cid5487309.htm