Movie prime
पप्पू देव की मौत में बड़ा सस्पेंस, शरीर में चोट के निशान लेकिन पुलिस ने सुनाई कोई और कहानी
 

90 के दशक में उभरे बिहार के चर्चित डॉन पप्पू देव की हत्या के बाद से सभी के मन में सवाल खड़े हो रहे हैं। पुलिस ने अपने आधिकारिक बयान में कहा है कि मुठभेड़ के दौरान हार्टअटैक से पप्पू देव की मौत हुई। हालांकि, उनकी मौत के पीछे कई कारण बताए जा रहे हैं। हमें मिली जानकारी के अनुसार, पप्पू देव की मृत्यु के पीछे यह कहानी है। 

18 दिसंबर की शाम सदर थाना को सूचना प्राप्त हुई थी कि सदर थाना क्षेत्र अंतर्गत सराही में पप्पू देव और उसके कुछ समर्थक जबरदस्ती हथियार से लैश होकर अपने गुर्गों के साथ एक जमीन की घेराबंदी करवाने का प्रयास कर रहा था। सूचना मिलती ही सदर थाना द्वारा छापामारी की गई। वहां से 3 लोगों को गिरफ्तार किया गया। बाकी लोग स्कॉर्पियो गाड़ी पर सवार होकर भाग निकले। सराही गांव में सदर थाना द्वारा की गई छापामारी के दौरान पुलिस को एक पिस्टल, कट्टा तथा 13 राउंड गोलियां मिली।

पप्पू देव के समर्थकों को हिरासत में लेने के बाद पुलिस को यह जानकारी मिली कि दो गाड़ी हथियार भर कर हथियार के साथ भाग निकले हैं। पुलिस अपराधियों का पीछा करते हुए बिहरा थाना क्षेत्र अंतर्गत पप्पू देव के घर पहुंची तथा वहां भी छापामारी की गई। वहां से भी दो लोगों को हिरासत में लिया गया तथा पप्पू देव के बारे में पूछताछ की गई। छानबीन के क्रम में पुलिस को सूचना मिली कि पप्पू देव एक चिमनी भट्ठा के बगल में उमेश ठाकुर के मकान में सोया हुआ है। पुलिस के द्वारा वहां छापामारी की गई तो पप्पू देव और उसके समर्थकों द्वारा पुलिस पर गोलियां चलाई गई। जवाबी कार्रवाई में पुलिस के द्वारा भी आत्म रक्षार्थ फायरिंग की गई।

पीएम

पुलिस से घिरा हुआ देखकर पप्पू देव अपना राइफल लेकर भागने की कोशिश करने लगा तथा उसने दीवार से छलांग लगा दी। पुलिस बल के द्वारा उसे उठा कर लाया गया। पुलिस द्वारा हिरासत में लिए जाने के बाद उसने छाती में दर्द होने की शिकायत की तो उसे देर रात 2:05 पर सदर अस्पताल के आईसीयू में भर्ती कराया गया। 3:10 पर उसे चिकित्सकों ने बेहतर इलाज के लिए दूसरे संस्थान में ले जाने की बात कहते हुए रेफर कर दिया। पुलिस के द्वारा तत्काल एंबुलेंस की व्यवस्था की गई तथा उसे दरभंगा मेडिकल कॉलेज अस्पताल या पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल ले जाने की तैयारियां शुरू की गई। इसी दौरान 4:00 बजे चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। 

पुलिस द्वारा की गई कार्रवाई में एक ऑटोमेटिक राइफल, तीन पिस्टल, तीन कट्टा तथा 47 चक्र गोलियां तथा कई खोखा बरामद की गई है। सदर अस्पताल में चिकित्सकों द्वारा पप्पू देव को मृत घोषित किए जाने के बाद आवश्यक प्रक्रिया का पालन कर पोस्टमार्टम कराने की तैयारी चल रही है। पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर मेडिकल बोर्ड का गठन कर वीडियोग्राफी के साथ पोस्टमार्टम की व्यवस्था की गई है। शव का पोस्टमार्टम मेडिकल बोर्ड के द्वारा किया जाएगा तथा पोस्टमार्टम की पूरी प्रक्रिया की वीडियोग्राफी भी कराई जाएगी। 

मांझी के बयान पर भड़के RJD और BJP नेता- https://newshaat.com/bihar-local-news/rjd-and-bjp-leaders-furious-over-manjhis-statement-said/cid6056529.htm