Movie prime
मांझी के बयान पर भड़के RJD और BJP नेता, कहा- ऐसे लोगों का मानसिक इलाज होना चाहिए
 

हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (हम) पार्टी के प्रमुख और पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी के द्वारा ब्राह्मण समाज को लेकर विवादित बयान आने के बाद से राज्य में सियासी बवाल मचा हुआ है। मांझी के बयान के विरोध में भाजपा और राजद के नेता ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। बता दें जीतन राम मांझी ने ब्राह्मण समाज को लेकर विवादित बयान दिया है। साथ ही उन्होंने सत्यनारायण की पूजा को लेकर भी सवाल उठाया है। मांझी ने एक कार्यक्रम में कहा कि हमारे गरीब तबके के लोग में धर्म की प्रधानता ज्यादा आ रही है। 

जीतन राम मांझी का बयान

मांझी ने कहा कि सत्यनारायण की पूजा पहले नहीं होती थी, लेकिन अब हर जगह गांव टोला में सत्यनारायण की पूजा होती है। ब्राहमण समाज के लोगों को लाज नहीं आती, वह लोग आते हैं पूजा कराते हैं और कहते हैं कि कुछ खाएंगे, पैसे दे दीजिए। मांझी ने सीधे- सीधे आरोप लगाया कि ब्राह्मण समाज के लोग सत्यनारायण की पूजा के बहाने लोगों को ठग रहे हैं। इसी बीच मांझी ने मंच से संबोधित करते हुए ब्राह्मण समाज को गाली भी दे दी। हालांकि, वहां मौजूद लोगों ने इस बात पर कोई आपत्ति नहीं जताई, बल्कि तालियां बजाने लगे।

राजद ने कहा, "शराब का सेवन करते हैं मांझी "  

बिहार सरकार के मंत्री नितिन नवीन ने जीतन राम मांझी के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि इस तरह के बयान किसी को नहीं देना चाहिए। मांझी हमारे वरिष्ठ नेता हैं। उन्हें किसी समाज को लेकर विवादित बयान नहीं देना चाहिए। समाज में हर वर्ग में सद्भाव बना रहे यह कोशिश होनी चाहिए। वहीं राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के विधायक राहुल तिवारी ने जीता राम मांझी द्वारा ब्राह्मण समाज को कहे गए शब्द पर बयान दिया है। उन्होंने कहा कि ऐसे लोगों का मानसिक इलाज होना चाहिए। यह नेता दोहरी नीति वाले हैं। मांझी पर बयान देते हुए राहुल तिवारी ने कहा, वोट मांगने जाते हैं काम निकल जाता है तो भूल जाते हैं। जीतन राम मांझी की दिमागी हालत ठीक नहीं है, उन्हें रांची में इलाज कराना चाहिए। यही नहीं उन्होंने यह कहा कि मांझी शराब का सेवन करते हैं। राहुल तिवारी ने कहा, " जो बयान मांझी दे रहे हैं वह साफ दर्शाता है कि वह शराब का सेवन करते हैं। शराब के नशे में मांझी अनाप-शनाप बयान देते रहते हैं। " वही राजद के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी ने कहा कि मांझी सीनियर आदमी हैं, वह संयमित भाषा में भी अपनी बात कह सकते थे।

ब्राह्मण वोटर हो सकते हैं नाराज

यहां आपको बता दें कि मांझी हम पार्टी के प्रमुख हैं और हम पार्टी एनडीए में सहयोगी पार्टी है। भाजपा का कोर वोटर ब्राह्मण है। ऐसे में ब्राह्मण समाज को मांझी के इस बयान से आपत्ति हो सकती है। जीतन राम मांझी अपने बयानों को लेकर हमेशा चर्चा में रहते हैं। वह एनडीए गठबंधन में होकर भी कभी नीतीश कुमार तो कभी भाजपा के खिलाफ बोलते रहते हैं। अभी हाल ही में शराबबंदी को लेकर भी मांझी ने सवाल उठाए थे। उन्होंने कहा था कि मुख्यमंत्री की शराब नीति का खामियाजा सबसे ज्यादा दलित समाज को झेलना पड़ रहा है। लोग शराब पीकर जेल जा रहे हैं जबकि 60 प्रतिशत बड़े लोग रात में शराब पीते हैं। 

शादी के बाद पहली बार तेजस्वी ने CM पर बोला हमला- https://newshaat.com/bihar-local-news/tejashwi-appeared-in-rjd-office-for-the-first-time-after/cid6054016.htm