Movie prime
LJP में घमासान जारी, पारस के बयान पर चिराग का पलटवार, कहा- 'पिता के आंदोलन को कर रहे हैं कमजोर '
 

लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के संस्थापक राम विलास पासवान के निधन के बाद पार्टी पर कब्जे को लेकर चिराग पासवान और उनके चाचा पशुपति पारस के बीच घमासान जारी है। शनिवार को चुनाव आयोग ने लोजपा का 'बंगला' चुनाव चिन्ह फ्रीज कर दिया। चुनाव आयोग के इस फैसले को लेकर दोनों ही नेताओं के बीच जुबानी जंग छिड़ गई। केंद्रीय मंत्री पशुपति पारस ने कहा कि उन्होंने ही ऐसा करने के लिए चुनाव आयोग से अपील की थी। वहीं दूसरी ओर चिराग पासवान ने इसे अपनी जीत बताया। इसके साथ ही उन्होंने अपने चाचा पशुपति पारस पर सत्ता के लोभ में दिवंगत नेता रामविलास पासवान के आंदोलन को कमजोर करने का आरोप लगाया है।

चिराग ने अपने ट्वीट में लिखा, "वंचित समाज की आवाज को देशभर में पिताजी ने आंदोलन बनाया। उस आंदोलन की मुखर आवाज बनी लोजपा। लेकिन सत्ता के लोभ में फंस चुके कुछ सहयात्रियों ने ही पिता जी के आंदोलन की आवाज को कमजोर कर दिया। आयोग का यह अंतरिम फैसला है। हमारे तर्कों को जगह मिली है। लोजपा की हुंकार कायम रहेगी। " इधर चिराग पासवान के गुट से पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता धीरेंद्र कुमार सिन्हा उर्फ मुन्ना ने तीखा हमला किया है। उन्होंने कहा है कि अपने फायदे के लिए पारस चुनाव आयोग को बदनाम कर रहे हैं। उन्होंने परिवार की लड़ाई को सरकार की लड़ाई बना दिया है। 


बता दें कि लोजपा के दोनों गुट को चुनाव चिन्ह देने पर अंतिम फैसला 4 अक्टूबर को होगा। इसके लिए चुनाव आयोग ने दोनों गुटों से 4 अक्टूबर तक जरूरी दस्तावेज लाने को कहा है। आयोग ने दोनों गुटों को विवाद खत्म हो जाने तक लोजपा के नाम या उसके चुनाव चिन्ह 'बंगले' का इस्तेमाल करने पर तब तक रोक लगा दी है। दोनों गुटों को अंतरिम उपाय के रूप में अपने-अपने समूहों के नाम और चुनाव चिन्ह चुनने के लिए कहा गया है। चुनाव आयोग का यह फैसला ऐसे समय में लिया गया है जब बिहार के तारापुर और कुशेश्वरस्थान विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होने हैं।

Doctors' Dialogue: तेजस्वी यादव ने किया डॉक्टरों से संवाद, CM पर साधा निशाना- https://newshaat.com/bihar-local-news/doctors-dialogue-tejashwi-yadav-interacts-with-doctors-targ/cid5389099.htm