Movie prime
Congress Foundation Day: फहराने से पहले सोनिया गांधी के हाथों से गिरा झंडा, कहा- गंगा जुमनी तहजीब को मिटाने की कोशिश चल रही है
 

भारत की पुरानी पार्टी कांग्रेस का आज 137वां स्थापना दिवस है। इसी क्रम में पार्टी कार्यालय पर स्थापना दिवस समारोह का आयोजन हुआ। इसमें कांग्रेस के कई बड़े नेताओं के साथ कार्यकर्ता भी शामिल हुए। वहीं इस मौके पर कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने झंडा फहराकर देश और पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। सोनिया गांधी ने अपने संबोधन में कार्यकर्ताओं से कहा कि हमें लोकतंत्र की रक्षा के लिए, समाज विरोधी साजिशों के खिलाफ हर संभव संघर्ष कर पार्टी को मजबूत बनाना है। इस संकल्प के साथ हम आगे बढ़ेंगे। हालांकि, ध्वजारोहण के दौरान एक ऐसी घटना हुई जिसकी चर्चा अब सभी तरफ हो रही है। बता दें, ध्वजारोहण से ठीक पहले झंडा गिर पड़ा जिसका एक वीडियो भी तेजी से वायरल हो रहा है। 

दरअसल, सोनिया गांधी ने जब पार्टी का झंडा फहराने की कोशिश की तो वह पोल से छूटकर सीधा नीचे आ गया। ऐसा माना जा रहा है कि झंडा ठीक से बंधा नहीं था, जिसकी वजह से ऐसा हुआ। बाद में सोनिया गांधी ने हाथ से ही झंडा फहरा दिया। इसके बाद कार्यक्रम में मौजूद राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने कार्यकर्ताओं से झंडा फहराने को कहा। फिर एक कार्यकर्ता आया और झंडे वाले काफी ऊंचे पोल पर चढ़ा, लेकिन वह आधा ही ऊपर जा सका। फिर दूसरा कार्यकर्ता आया, जिसने झंडे को बांधने की कोशिश की। बाद में सीढ़ी भी मंगाई गई।

सोनिया गांधी
सोनिया गांधी 

काग्रेंस स्थापना दिवस पर सोनिया गांधी ने देश और कार्यकर्ताओं के नाम संदेश दिया। उन्होंने केंद्र सरकार को घेरते हुए कहा कि अभी इतिहास को झुठलाया जा रहा है। देश की गंगा जुमनी तहजीब को मिटाने की नापाक कोशिश की जा रही है। सोनिया गांधी ने कहा कि देश का आम नागरिक असुरक्षित और भयभीत महसूस कर रहा है। उन्होंने आगे कहा कि हमारे प्यारे देशवासियों और कांग्रेस के जांबाज साथियों आज हम सब 137वां साल पुरानी अपनी कांग्रेस पार्टी का स्थापना दिवस पूरे देश में बड़े व्यापक रूप से मना रहे हैं। कांग्रेस केवल एक राजनीतिक पार्टी का ही नाम नहीं है, बल्कि एक आंदोलन का नाम है। कांग्रेस की स्थापना किन परिस्थितियों में हुई यह मुझे बताने की जरूरत नहीं है। 

सोनिया गांधी ने कहा, " कांग्रेस के आजादी के आंदोलन में कांग्रेस और उसके तमाम नेताओं ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। संघर्ष किया, जेलों में कठोर यातनाएं झेलीं और बहुत से देश भक्तों ने अपने प्राणों तक का बलिदान दे दिया तब जाकर कहीं हमें आजादी मिली। आजादी के बाद हमें जो भारत मिला उसकी कल्पना करना कठिन है लेकिन हमारे महान नेताओं ने बड़ी सूझबूझ और दृढ़ निश्चय के साथ भारत के नव-निर्माण की एक मजबूत बुनियाद रखी जिस पर चलकर हमने एक सशक्त भारत खड़ा किया। " वहीं इस मौके पर पार्टी के पूर्व अध्यक्ष और नेता राहुल गांधी ने कहा, " हम कांग्रेस हैं- वो पार्टी जिसने हमारे देश में लोकतंत्र की स्थापना की और हमें इस धरोहर पर गर्व है। कांग्रेस को स्थापना दिवस की शुभकामनाएं।" 

राहुल गांधी का ट्वीट
राहुल गांधी का ट्वीट

गौरतलब है कि लगातार दो लोकसभा चुनाव हारने और राज्यों में क्षेत्रीय दलों के आगे प्रभावहीन हो रही कांग्रेस, स्थापना दिवस के साथ ही नए सिरे से खुद को मजबूती देने जा रही है। स्थापना दिवस के मौके पर नेता और कार्यकर्ता धरना-प्रदर्शन और आंदोलन की रणनीति पर आगे बढ़ने का संकल्प लेंगे। कांग्रेस अब बेरोजगारी और सरकारी कंपनियों के निजीकरण के मुद्दे पर हल्ला बोलेगी। समिति के सदस्यों के मुताबिक पार्टी देशभर में जनता तक पहुंचने के लिए एक ट्रेनिंग अभियान पहले ही शुरू कर चुकी है। जिला और ब्लॉक स्तर तक करीब 5500 ट्रेनर तैयार किए जा रहे हैं जो नुक्कड़ प्रवक्ता की भूमिका में चाय की दुकानों और अन्य पब्लिक जगहों पर समाज में होने वाली बहस में पार्टी का पक्ष रखने को तैयार हैं। 

नीतीश सरकार के मंत्री को विशेष राज्य के बारे में नहीं है पता- https://newshaat.com/bihar-local-news/the-minister-of-nitish-government-does-not-know-about-the/cid6118115.htm