Movie prime
कृषि कानूनों की वापसी को तेजस्वी ने बताया, " किसान की जीत, सरकार की हार"
 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तीन कृषि कानून को वापस लेने का फैसला लिया है। पीएम ने अपने देश के संबोधन में यह कहा है कि संसद के अगले सत्र में इन कानूनों को खत्म करने के लिए प्रस्ताव लाया जाएगा। वहीं सयुंक्त किसान मोर्चा के नेता राकेश टिकैत ने किसान आंदोलन को लेकर कहा कि किसान अपना आंदोलन जारी रखेंगे। उनका कहना है कि जब तीन कृषि कानून संसद में वापस नहीं हो जाते तब तक किसानों का आंदोलन जारी रहेगा। इधर, प्रधानमंत्री के इस फैसले के बाद से बिहार की सियासत भी गरमा गई है। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने भी इस मुद्दे पर प्रतिक्रिया देते हुए केंद्र सरकार पर तंज कसा है। बता दें, तेजस्वी यादव ने एक के बाद एक कई ट्वीट किए। 

तेजस्वी यादव ने ट्वीट करते हुए कहा,  " किसान की जीत, देश की जीत.... पूंजीपतियों, उनके रखवालों और सरकार की हार। " वहीं एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा, "अंहकार टूट गया ।"  इसी के साथ तेजस्वी यादव ने अखबारों के कुछ क्लिप भी साझा किया, जिनमें तीन कृषि कानून को वापस करने की मांग को लेकर हजारों किसान आंदोलनरत थे।


इस ट्वीट में लिखा है, "  जिनके श्रम से सारा देश खाता है रोटी, जुल्मी सरकार रोज उन्हें मारती है लाठी, सरकार के लुटेरे फंडदाताओं और देश के मेहनतकश अन्नदाताओं की इस लड़ाई में हम दृढ़ता के साथ किसानों के साथ है। काले कृषि कानूनों के विरोध में बिहार के गांव-गांव में किसानों ने मानव श्रृंखला का निर्माण किया।"

गौरतलब है कि पीएम ने राष्ट्र को संबोधित करते हुए कहा कि वह देशवासियों से क्षमा मांगते हैं।  इस दौरान पीएम मोदी ने कृषि कानूनों को वापस लेने का ऐलान किया। पीएम मोदी ने कहा कि संसद के अगले सत्र में इन कानूनों को खत्म करने के लिए प्रस्ताव लाया जाएगा। उन्होंने कहा कि पहले भी यह कानून किसानों की बेहतरी के लिए लाए गए थे लेकिन अफसोस है कि हम कुछ किसानों को ये बात समझाने में असफल रहे। 

प्रधानमंत्री मोदी ने वापस लिया तीनों कृषि कानून- http://newshaat.com/top-stories/prime-minister-modi-withdrew-all-three-agricultural-laws/cid5784633.htm

बिहार में कृषि कानूृन पर क्या है विपक्षियों का कहना- https://youtu.be/3hujtMFglOw