Movie prime
तेजस्वी के बयान पर BJP प्रवक्ता निखिल आनंद ने किया पलटवार, कहा- नित्यानंद RJD जैसी परिवारवादी पार्टी में कभी शामिल नहीं हो सकते
 

भाजपा ओबीसी मोर्चा के राष्ट्रीय महामंत्री सह बिहार भाजपा प्रवक्ता डॉ० निखिल आनंद ने तेजस्वी यादव द्वारा केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय के खिलाफ बोलने पर कड़ा प्रतिवाद करते हुए कहा की जब तेजस्वी को अपनी राजनीति आगे बढ़ाने के लिए झूठ का सहारा लेना पड़ रहा है तो समझ लेना चाहिए कि परिवार की दुकान बंद होने वाली है. नित्यानंद राय की राजनीति में बढ़ते कद को देखकर तेजस्वी यादव को घबराहट हो रही है. लालू परिवार कभी भी नहीं चाहता कि यादव समाज का कोई व्यक्ति उनके परिवार से बाहर केंद्र या राज्य में मंत्री बने, किसी प्रदेश का मुख्यमंत्री बने या फिर नित्यानंद की तरह केंद्रीय गृह राज्यमंत्री बने.

Nikhil anand takes a dig at shakti singh gohil|बिहार: शक्ति सिंह गोहिल के  बहाने निखिल आनंद ने साधा कांग्रेस पर निशाना, बोले.. | Hindi News, बिहार एवं  झारखंड

निखिल आनंद ने कहा कि जब नित्यानंद राय ने अपनी राजनीतिक जीवन की शुरुआत की थी तब तेजस्वी यादव बहुत छोटे होंगे और वे नंगे या फिर नैपी- पैड पहनकर घूमते होंगे. तेजस्वी को अपने उम्र, अनुभव, हैसियत का अंदाजा नहीं है और इसीलिए वे कभी द्रौपदी मुर्मू तो कभी नित्यानंद राय के खिलाफ हल्की बातें बोल रहे हैं. नित्यानंद राय ने अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् से अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत 1980 में की और प्रारंभिक स्तर पर संघ की शाखा का संचालन भी करते रहे है. भाजपा की राष्ट्रवादी को विचारधारा और धर्म, संस्कृति, गाय और गीता की रक्षा का जो व्यक्ति संकल्प ले चुका है वो अपनी जान दे सकता है लेकिन कभी भी राजद जैसी धार्मिक तुष्टिकरण करने वाली परिवारवादी पार्टी में शामिल नहीं हो सकता है.

Agnipath Scheme Protest: Tejeshwi Yadav Told Agnipath Scheme Is A Contrach  System Ann | Agnipath Scheme Protest: अग्‍न‍िपथ स्‍कीम को तेजस्‍वी यादव ने  बताया ठेका प्रथा, कहा- ये है लागू करने की

जानकारी के लिए बता दें तेजस्वी यादव ने आज विधानसभा के बहार मीडिया से बात करते हुए कहा कि जब केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय को मंत्री पद नहीं मिला था तो वो हमसे मिले थे और कहा था कि आप हमें अपनी पार्टी में ले लीजिए. अब इनके इस बयान पर राजनीति शुरू हो गई है. 

Nityanand Rai - Wikipedia