Movie prime
नीति आयोग पर BJP का हमला, कहा- बिहार आकर देखें, तेजस्वी ने साधा CM पर निशाना
 

नीति आयोग की रिपोर्ट के अनुसार बिहार का प्रदर्शन सबसे खराब है। इस पर अब बिहार के भाजपा नेता ने सवाल उठाया है। भाजपा प्रवक्ता प्रेमरंजन पटेल ने नीति आयोग को बिहार आकर जमीनी हकीकत देखनी की सलाह दे डाली। कहा कि बिहार आकर देखें कि स्वास्थ्य और शिक्षा के क्षेत्र में कितना सुधार हुआ है। 

राजद नेता ने दी BJP को नसीहत- https://youtu.be/XrvQRpcnfd8

पटेल ने कहा है, "साल 2005 में बिहार की पर कैपिटा इनकम 7000 रुपए थी, जो आज 46,000 रुपए है। 2005 में योजना आकार 18 हजार करोड़ का था, अब 2 लाख 18 हजार करोड़ का है। केन्द्र सरकार के माध्यम से ही दिए पैकेज में से सड़कों के लिए 54 हजार करोड़ रुपए दिए गए। यह सब विकास आज हर किसी को नजर आ रहा है। 6 घंटे में कहीं से भी राजधानी आ सकते हैं। शिक्षकों की बहाली, पोशाक योजना, मिड डे मिल योजना सब चल रही है।" 

BJP ने उड़ाई शराबबंदी कानून की धज्जियां- https://youtu.be/mKgcAHjWzxw

वहीं इस रिपोर्ट पर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने भी प्रतिक्रिया दी है। तेजस्वी यादव ने लिखा है, "नीतीश के 16 साल, बिहार सबसे बदहाल ....नीति आयोग की दूसरी रिपोर्ट के 7 सूचकांकों में भी बिहार की सबसे बुरी और खराब स्थिति है। डबल इंजन सरकार के पास कोई तार्किक जवाब नहीं। जब राज्यहित में तथ्य, तर्क और सच्चाई के साथ सवाल पूछता हूं तो धरा के सबसे ज्ञानी 16 वर्षीय मुख्यमंत्री भड़क जाते है। " 

MU के कुलपति पर राजभवन की मेहरबानी- https://youtu.be/gGrPy9l8UJQ

गौरतलब है कि नीति आयोग ने बुधवार को नेशनल मल्टीडाइमेंशनल पोवर्टी इंडेक्स- बेसलाइन रिपोर्ट जारी की है। रिपोर्ट के अनुसार, बिहार के 51.91 प्रतिशत जनसंख्या मल्टीडाइमेंशनली गरीब हैं, जबकि 51.88 प्रतिशत लोग न्यूट्रिशन से वंचित हैं। गरीबी, न्यूट्रिशन, मैटरनल हेल्थ, स्कूल अटेंडेस, कुकिंग फ्यूल व इलेक्ट्रिसिटी के मामले में बिहार का स्थान देशभर में सबसे ज्यादा खराब है। नीति आयोग ने स्पष्ट किया है कि एनएफएचएस 4 के आंकड़ों पर यह आकलन किया गया है।

तेजस्वी के 21 सवाल- https://youtu.be/fVGPnrCpdLQ

बता दें, इससे पहले स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर नीति आयोग की जारी रिपोर्ट पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी भड़क चुके हैं। दरअसल, अक्टूबर में नीति आयोग ने एक रिपोर्ट जारी किया था जिसमें बिहार को फिसड्‌डी राज्यों में रखा था। तब मुख्यमंत्री ने कहा था, "नीति आयोग के काम करने का तरीका बिल्कुल विचित्र है। सभी राज्यों को ही पैरामीटर पर रखकर काम नहीं किया जा सकता। जनसंख्या के लिहाज से बिहार देश में तीसरे स्थान पर है और क्षेत्रफल के लिहाज से 12 में स्थान पर है। ऐसे में अगर आप 1 स्कावयर किलोमीटर के अंदर स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर आकलन करते हैं तो उसका नतीजा सही नहीं आ सकता। बिहार में 15 साल पहले क्या स्थिति थी, यह सबको मालूम है।"