मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के इफ्तार पार्टी में, हर चेहरा बन गया दोस्त

  • द्वारा

देश भर के लोकसभाा चुनावी हलचल के बाद अब राज्यों में इसके सोर सुनाई देने लगे हैं. भारतीय जनता पार्टी की केन्द्र में सरकार बनने के बाद से गठबंधन सहीत सभी अन्य दलों के अपने अपने विचार पनपने लगे हैं. इसी बीच बिहार में राजनीतिक दल अपना समीकरण साधने में जूट गई हैं.

बता दें कि केंद्रीय मंत्रिमंडल में एक पद के प्रस्ताव पर मोदी कैबिनेट में नीतीश कुमार को जगह नही मिलने के बाद से बिहार की सियासत और भी ज्यादा तेज गई है. जिसके बाद जदयू ने भी चाल चली और बिहार कैबिनेट के विस्तार में भाजपा को आमंत्रित नही किया. नीतीश कुमार के इस झटके के बाद से भाजपा में हरकंप जैसा माहौल बना हुआ है. भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता सहीत तमाम नेता सतर्कता की राह थामने लगे हैं.

एक तरफ रमजान के महीने में सभी राजनीतिक दल बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर इफ्तार पार्टी के बहाने अपनी सियासी जमीन को मजबूत करने में लगी है तो वहीं दूसरी ओर नीतीश कुमार का कुछ अलग ही रंग देखने को मिल रहा है. जदयू सुप्रिमों और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के इफ्तार पार्टी में कई दलों के नेता पहुंच रहे हैं. यहां तक की राजद और जदयू दोनों के नेताओं को एक ही पार्टी में देखा जा रहा है. सभी दोस्ती-दुश्मनी को भूलाकर बेहतर माहौल के बीच नीतीश कुमार, राम विलास पासवान, जीतन राम मांझी, सुशील मोदी की गलबहियां करती तस्वीरें सामने देखने को मिल रही है.