Movie prime
लॉकडाउन के समय 'आदमी मुसाफिर है' गाना गाने वाले दारोगा आखिर क्यों फरार हैं?
इस मामले में दारोगा दिलीप कुमार निराला पर भ्रष्टाचार अधिनियम सहित तीन धाराओं में केस किया गया है. इसमें विश्वास का आपराधिक हनन और धोखाधड़ी का आरोप लगा है.
 

आमतौर पर पुलिस लाठी डंडे चलाकर लोगों को अपनी बात समझाती है। लेकिन कोरोना की दूसरी लहर के दौरान फिल्मी गाने गाकर पब्लिक को जागरुक करने वाले भागलपुर जिले के दारोगा दिलीप कुमार निराला उर्फ डी.के निराला का यह 'निराला' अंदाज आपको याद ही होगा। जिंदगी इम्तिहान लेती है, दोस्तों की जान लेती है...। आदमी मुसाफिर है, आता और जाता है...। शहर की सड़कों पर दारोगा दिलीप कुमार लगातार यह गाना गाकर लोगों को लॉकडाउन के समय जागरुक कर रहे थे। लेकिन अब अपने अनोखे अंदाज को लेकर चर्चा में आने वाले दारोगा दिलीप घूस लेने के आरोप में फरार हैं। घूस लेने के आरोप में दिलीप कुमार के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है। भोजपुर एसपी विनय तिवारी ने दारोगा को निलंबित कर दिया है। एसपी के आदेश पर विभागीय कार्रवाई भी शुरू कर दी गई है। अब गिरफ्तारी से बचने के लिए दारोगा ड्यूटी से फरार हो गया है।

दरअसल, शिवगंज निवास  विश्वनाथ प्रसाद की ओर से थाने में एक प्राथमिकी दर्ज कराई गई। उनकी ओर से कहा गया कि उनकी बेटी सुनीता देवी ने आरा नगर थाना के शिवगंज में एक मकान खरीदा था। लेकिन अर्जुन प्रसाद, दिलीप प्रसाद दबंगई दिखाकर मकान में घुसने नहीं दे थे। इसके बाद नगर थाना में पोस्टेड दारोगा दिलीप कुमार निराला से इसकी शिकायत की गई थी।

संबंधित मामले में दारोगा ने मकान को दबंगों से छुड़वाने के लिए 20 जुलाई को आर्य समाज मंदिर के पीछे 26,500 रुपये लिए थे। साथ ही विश्वनाथ प्रसाद के बेटे ने जब दारोगा का वीडियो बनाने की कोशिश की तो गुस्से में आकर दारोगा ने विश्वनाथ प्रसाद के बेटे का 15,000 का फोन छीन लिया। इस मामले के बाद बाप-बेटे बिगड़ने लगे तब दारोगा ने उन्हें कहा कि वह उनका काम कर देंगे। इसी बीच दिलीप कुमार का तबादला जगदीशपुर हो गया। विश्वनाथ प्रसाद को जानकारी मिलने पर उसने जगदीशपुर थाना जाकर दिलीप कुमार से बात की और मोबाइल मांगा। इस पर दिलीप कुमार फिर भड़क गए और कहा कि मोबाइल और रुपये लौटा दूंगा, लेकिन दारोगा ने अब तक ना तो मकान खाली कराया ना ही मोबाइल लौटाया। 

अब इस मामले में दारोगा दिलीप कुमार निराला पर भ्रष्टाचार अधिनियम सहित तीन धाराओं में केस किया गया है। इसमें विश्वास का आपराधिक हनन और धोखाधड़ी का आरोप लगा है। वहीं, भोजपुर के एसपी विनय तिवारी ने बताया कि दारोगा खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है। सदर एसडीपीओ हिमांशु केस की जांच कर रहे हैं। उनकी रिपोर्ट के आधार पर उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। भ्रष्टाचार आचरण किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

डोरंडा कोषागार: लालू यादव की बढ़ सकती है मुश्किलें- https://newshaat.com/bihar-local-news/doranda-treasury-lalus-troubles-may-increase-physical/cid5361636.htm